health insurance की जाने योग्य बातें और लाभ (Health Insurance benefits)

तात्कालिक (improvised) समय में लोगों के जीवन में भविष्य सम्बन्धी कई चिंताएं होती हैं. इन चिंताओं को देखते हुए कई सरकारी तथा ग़ैर सरकारी बैंक ने विभिन्न तरह की बीमाओं की सुविधा एवं सेवा का अविर्भाव किया है. इन बीमा पालिसी (Insurance policy) पर निवेश करते हुए हम अपने भविष्य को सुनियोजित कर सकते है. यहाँ health-insurance के बारे में कुछ जानकारी दी जा रही है.

health-insurance एक तरह की बीमा सेवा है, जिसमे कोई भी अपने मेडिकल (Medical) और सर्जिकल खर्चों को नियोजित कर सकता है. विभिन्न तरह के आर्थिक (Economic) संस्थानों द्वारा इनके लिए विभिन्न तरह की योजनायें होती हैं. मुख्यतः यह बीमा (insurance) ग्राहक को दुर्घटना या किसी रोग के समय हॉस्पिटलाइज़ेशन, एम्बुलेंस, नर्सिंग केयर, सर्जरी, मेडिकल बिल आदि के भुगतान में सहायता करती है. इन सभी लाभ को पाने के लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही काम करना होता है कि अपनी आमदनी के मुताबिक स्वास्थ्य बीमा (health-insurance) ख़रीदनी होती है. बीमा देने वाली company इन सभी ज़िम्मेवारियों को बेहद अच्छे तरीके से निभाता है. कुछ निश्चित बीमा योजना (insurance policy) समय समय पर स्वास्थ (health) जांच कराने के लिए भी पैसे देते हैं.

Health insurance से लाभ (Health Insurance benefits)

health insurance कराने से कई (benefits) लाभ प्राप्त होते हैं. इसका अधिक फायदा आपातकालीन समय में होता है. इसके कुछ फायदे निम्नलिखित हैं.

health insurance


Online सुविधाएँ : सबसे बड़ी बात ये है कि health insurance अब ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है, जो पहले किसी एजेंट द्वारा खरीदा जाता था. Online से एक लाभ यह हुआ कि ग्राहक एजेंट की लुभावनी बातो से परे यथार्थ के धरातल पर रहकर बीमा सम्बंधित सभी जानकारियां स्वयं जान पायेंगे और अपनी आवश्यकतानुसार अपने लिए सही बीमा का चयन करेंगे.

विभिन्न प्रीमियम भुगतान : भारत की कई बीमा कंपनियां यूँ तो एक ही तरह की सुविधाएँ देती हैं, किन्तु इसी के बीच कुछ कम्पनियां मसलन भारती अक्सा और स्टार health insurance कई तरह की ‘जोन बेस्ड प्रीमियम’ भी निकालती हैं. आम तौर पर यह देखा जाता है कि महानगरों की health insurance आम शहरों की बीमाओं से अधिक कीमती होती हैं.


रिन्यूअल सेवा : पुरानी बीमा व्यवस्था के विपरीत तात्कालिक समय की कई स्वास्थ सम्बन्धी बीमायें अधिक सहज और फ्लेक्सिबल रूप में आने लगी है. पुरानी बीमा व्यवस्था में अधिकतम उम्र की सीमा होती थी, किन्तु तात्कालिक कई Health insurance की सेवा इस शर्त से मुक्त है, और ग्राहक अपने जीवनकाल में किसी भी समय यह प्लान रिन्यू करा सकता है.

ओपीडी ख़र्च में मदद : जहाँ पारम्परिक बीमाओं में हॉस्पिटलाइज्ड आदमी 24 घंटे बाद इन्स्युरेंस कर पाता है, वहीँ कुछ health insurance कंपनियां तात्कालिक सहयोग देने की सुविधा भी दे रही है. इस सुविधा के अंतर्गत health insurance company ग्राहक के तमाम ओपीडी खर्चे देता है. इस समय ICICI और स्टार हेल्थ केयर ये सुविधा दे रहा है.
Cashless service : कई बीमा कंपनियों का बड़े बड़े अस्पतालों से सीधा- सीधा सम्बन्ध है, जो खुद से संलग्न अस्पतालों में अपने बीमा ग्राहकों को कैशलेस सेवा मुहैया कराते हैं. अतः ग्राहकों को आवश्यक समय में कैश (Cash) के लिए चिंता करने की ज़रुरत नहीं होती है.

टैक्स लाभ : सेक्शन 80D के अनुसार बीमा ग्राहक को कुछ कर लाभ भी प्राप्त हो सकता है. ग्राहक को इस सेक्शन के तहत रू 55,000 तक का लाभ मिल सकता है.

Health insurance की जाने योग्य बातें (Health Insurance important facts)

पिछ्ले 2 दशक में स्वास्थ (health) सम्बन्धी खर्चों में लगातार वृद्धि हुई है. इस तरह छोटे से छोटे स्वास्थ (health) सम्बन्धी परेशानियों में भी अधिक से अधिक पैसे ख़र्च होने लगे हैं. अतः health insurance इस समय में बहुत कारगर सिद्ध होता है, किन्तु प्लान लेने से पहले प्लान से सम्बंधित सभी आवश्यक तथ्यों को जानना बहुत ज़रूरी है. बीमा (insurance Terms and conditions) सम्बंधित निर्देशों, नियमो तथा शर्तों को जानना बेहद आवश्यक है. विभिन्न प्लान के विभिन्न नियम होते हैं. जैसे–
  • Cashless hospitalization, प्लांड हॉस्पिटलाइज़ेशन, इमरजेंसी हॉस्पिटलाईज़ेशन आदि के विषय में पूरी बातें पता करनी आवश्यक होती हैं.
  • किस भी Healthcare Policy Coverage को जानना और समझना एक ग्राहक के लिए बहुत ज़रूरी होता है.
  • Customers को यह जानना आवश्यक है कि पूर्व मेडिकल स्थिति को कवर किया गया है या नहीं. ग्राहक को उन सभी Medical खर्चों को ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है जिसका प्रयोग न किया गया हो.
  • ग्राहकों (Customers) को बीमा खरीदते समय इस बात का ख़ास ध्यान रखना चाहिए कि ख़रीदी जा रही बीमा को-इन्स्युरेंस है या नहीं. साथ ही बीमा की अंतिम तारिख को ध्यान में रखते हुए बीमा अपडेट (Insurance updates) कराते रहना चाहिए. 
Previous
Next Post »

ConversionConversion EmoticonEmoticon

Note: Only a member of this blog may post a comment.